Breaking

05 January, 2019

Internet essay in hindi - Essay on internet advantages and disadvantages - इन्टरनेट क्या होता है इन्टरनेट पर निबंध!

Internet essay in hindi what is internet in hindi. नमस्कार दोस्तों आप सभी को तो इन्टरनेट के बारे में तो मालूम ही होगा की इन्टरनेट आज हमारे लिए सब कुछ जैसा हैजब से जिओ आया है तब से इन्टरनेट का तो भूकंप सा आ गया हैवैसे आज हम जानेंगे की इन्टरनेट क्या होता है इन्टरनेट पर निबंध! internet essay तो चलिए जानते है की इन्टरनेट kya होता है इन्टरनेट पर निबंध कैसे लिखे? essay on internet advantages and disadvantages.

Internet essay in hindi.

Internet essay in hindi इंटरनेट ने विश्व में जैसा क्रांतिकारी परिवर्तन कियावैसा किसी भी दूसरी टेक्नॉलाजी ने नहीं किया! नेट के नाम से लोकप्रिय इंटरनेट अपने उपभोक्ताओं के लिए बहुआयामी साधन प्रणाली है! 
Internet essay in hindi ( internet essay )
Internet essay in hindi - internet essay.

यह दूर बैठे उपभोक्ताओं के मध्य उपभोक्ताओं के मध्य अंतर संवाद का माध्यम है
सूचना या जानकारी में भागीदारी और सामूहिक रूप में काम करने का तरीका हैसूचना को विश्व स्तर पर प्रकाशित करने का जरिया है और सूचनाओं का अपार सागर है! इसके माध्यम से इधर-उधर फैली तमाम सूचनाएं प्रसंस्करण के बाद ज्ञान में परिवर्तित हो रही है! इसने विश्व नागरिको के बहुत ही शुघड और घनिष्ठ समुदाय का विकास किया है. इन्टरनेट पर निबंध

इन्टरनेट की भूमिका / Role of internet.

इंटरनेट विभिन्न टेक्नोलॉजीयो के संयुक्त रूप से कार्य का उपयोग उदाहरण है! कंप्यूटर के बड़े पैमाने पर उत्पादनकंप्यूटर संपर्क जाल का विकासदूर संचार सेवाओं की बढ़ती उपलब्धता और घटता खर्च तथा आंकड़ों के भंडारण और संप्रेषण में आई नवीनता  ने नेट के कल्पनातीत विकास और उपयोगिता को बहुमुखी प्रगति प्रदान की है जैसे की सड़केंटेलीफोन या विद्युत ऊर्जा!



इतिहास और विकास / history of internet in hindi-internet users in india.

इंटरनेट का इतिहास पेचीदा है! इसका पहला दृष्टांत सन 1962 ईस्वी मैं मैसाचुसेट्स  टेक्नोलॉजी संस्था के जे०सी०आर० लिकपलाइनर द्वारा लिखे गए कई विज्ञापनों के रूप में सामने आया था! उन्होंने कंप्यूटर की ऐसी विश्वव्यापी अंतरसंबंधित श्रृंखला की कल्पना की थी जिसके जरिए वर्तमान इंटरनेट की तरह ही आंकड़ों और कार्यक्रमों को तत्काल प्राप्त किया जा सकता था! इस प्रकार के नेटवर्क में सहायक बनी तकनीकी सफलता पहली बार इस संस्था के लियोनार्ड क्लीनिकरोक ने सुझायी थी! उनकी यह सूझ पैकेट स्विचिंग नाम की नई टेक्नोलॉजी थी जो सामान्य टेलीफोन प्रणाली में प्रयुक्त सर्किट स्विचिंग टेक्नोलॉजी से मिलती-जुलती थी! पैकेट स्विचिंग उस पर पत्र पेटी की तरह थीजिसका इस्तेमाल चाहे जितने लोग कर सकते थे! इसके जरिए दुनिया में कंप्यूटर अन्य कंप्यूटर से जुड़े बिना भी एक दूसरे से संवाद कायम कर सकते थे!
इंटरनेट के इतिहास में 1973 का वर्ष ऐसा था जिसने अनेक मील के पत्थर जोड़ें और इस प्रकार अधिक विश्वसनीय और स्वतंत्र नेटवर्क की शुरुआत हुई! इस वर्ष में इंटरनेट एक्टिविटीज बोर्ड की स्थापना की गई! इस वर्ष के नवंबर महीने में डोमेन नेम इन सर्विस ( डी एन एस) का पहला विवरण जारी किया गया और वर्ष की आखिरी महत्वपूर्ण घटना इंटरनेट का सीना और नाम लोगों के लिए उपयोग के वर्गीकरण द्वारा सार्वजनिक नेटवर्क के उदय के रूप में सामने आया तथा इसी के साथ आज प्रचलित इंटरनेट ने जन्म लिया. Internet essay in hindi.
इंटरनेट का बाद का इतिहास मुख्यतः बहुविध उपयोग का है जो नेटवर्क की आधारभूत संरचना से ही संभव हो सका! बहुविध उपयोग की दिशा में पहला कदम फाइल ट्रांसफर प्रणाली का विकास था! दूर-दराज के कंप्यूटर के  विच फाइलों का आदान-प्रदान संभव हो सका! सन 1984 ईस्वी में इंटरनेट से जुड़े कंप्यूटर की संख्या 1000 थी जो सन 1989 ईस्वी में एक लाख के ऊपर पहुंच चुकी थी! 90 के दशक के आरंभ में इंटरनेट पर सूचना प्रस्तुति के नए तरी के सामने आए! सन 1991 ईस्वी में मिनेसोटा विश्वविद्यालय द्वारा तैयार गोफर नामक सरलता से पहुंच योग्य डॉक्यूमेंट प्रस्तुति प्रणाली अस्तित्व में आयी! इससे पहले सन 1990 ईस्वी में ही टीम बर्नर ली ने वर्ल्ड वाइड वेब (www) का आविष्कार करके सूचना प्रस्तुति का एक नया तरीका सामने रखा जो सरलता से इस्तेमाल योग सिद्ध हुआ!
सन 1993 ईस्वी में ग्राफिकल वेब ब्राउजर का आविष्कार इंटरनेट के क्षेत्र में एक बड़ी घटना थी! इससे ना केवल विवरण  वरन चित्रों का भीड  दीर्घदर्शन संभव हो गया! इस ब्राउजर को मोजाइक कहा गया! इस समय तक इंटरनेट उपभोक्ताओं की संख्या 20 लाख से अधिक हो गई थी और आज प्रचलित इंटरनेट आकार ले चुके है! Internet essay in hindi.

इंटरनेट संपर्क / advantages of internet communication.

इंटरनेट का आधार राष्ट्रीय क्षेत्रीय सूचना इंफ्रास्ट्रक्चर होता है जो सामान्यतः हाई बैंडविथ ट्रंक लाइनो से बना होता है और जहां से विभिन्न संपर्क लाइने कंप्यूटरों को जोड़ती है जिन्हें आश्रय दाता (होस्ट) कंप्यूटर कहते हैं! यह आश्रय दाता कंप्यूटर प्रायः बड़े अस्थानोजैसे-- विश्वविद्यालयोंबड़े उद्यान और इंटरनेट कंपनियों से जुड़े होते हैं और उन्हें इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडर (आईएसपी) कहा जाता है! आश्रयदाता 24 घंटे काम करते हैं और अपने उपभोक्ताओं को सेवा प्रदान करते हैं! यह कंप्यूटर विशेष संचार लाइनो के जरिए इंटरनेट से जुड़े होते हैं! इनके उपभोक्ताओं/ व्यक्तियों की पीसी ( पर्सनल कंप्यूटर ) साधारण टेलीफोन लाइन और मॉडेम के जरिए इंटरनेट से जुड़े रहते हैं!
एक सामान्य उपभोक्ता एक निश्चित राशि का भुगतान करके आईएसपी से अपना इंटरनेट खाता प्राप्त कर लेता है! आईएसपी लॉगइन नेमपासवर्ड ( जिसे उपभोक्ता बदल सकता है ) और नेट से जुड़ने के लिए कुछ एक जानकारियां उपलब्ध करा देता है! एक बार इंटरनेट से जुड़ जाने पर उपभोक्ता इंटरनेट सेवाओं तक पहुंच सकता है! इसके लिए उसे सही कार्यक्रम का चयन करना होता है! ज्यादातर इंटरनेट सेवाएं उपभोक्ता-सर्वर रूपाकर पर काम करती है! इनमें सर्वर वे कंप्यूटर हैं जो नेट से जुड़े हुए व्यक्तिगत कंप्यूटर उपभोक्ताओं को एक या अधिक सेवाएं कराते हैं! ई सेवा के वास्तविक प्रयोग के लिए उपभोक्ता को उस विषय सेवा के लिए आश्रित ( क्लाइंट ) सॉफ्टवेयर की जरूरत होती है!

इंटरनेट सेवाएं / service of internet.

इंटरनेट की उपयोगिता उपभोक्ता को उपलब्ध सेवाएओ से निर्धारित होती है! इसके उपभोक्ता को निम्नलिखित सेवाएं उपलब्ध है:-

1. ई-मेल / internet email in hindi.

ईमेल या इलेक्ट्रॉनिक मेल इंटरनेट का सबसे लोकप्रिय उपयोग है! संवाद के अन्य माध्यमों की तुलना में सस्तातेज़ और अधिक और सुविधाजनक होने के कारण इसमने दुनियाभर के घरों और कार्यालयों में अपनी जगह बना ली है! इसके द्वारा पहले भयाषी पाठ हो प्रेषित किया जा सकता थालेकिन अब संदेशचित्रअनुक्रीतीध्वनिआंकड़े आदि भी प्रेषित किए जा रहे हैं!



2. टेलनेट-telenet internet.

टेलनेट एक ऐसी व्यवस्था हैजिसके माध्यम से उपभोक्ता को किसी दूर स्थित कंप्यूटर स्वयं को जोड़ने की सुविधा प्राप्त हो जाती है!

3. इंटरनेट चर्चा (चैट) / types of chatting.

नई पीढ़ी में इंटरनेट रीले चैट या चर्चा व्यापक रूप से लोकप्रिय है! यह ऐसी गतिविधि हैजिसमें भौगोलिक रूप से दूर स्थित व्यक्ति एक ही चैट सरवर पर लाग करके कीबोर्ड के जरिए एक-दूसरे से चर्चा कर सकते हैं! इसके लिए एक वांछित व्यक्ति की आवश्यकता होती हैजो निश्चित समय पर उस लाइन पर सुविधा पूर्वक उपलब्ध हो. internet essay

4. वर्ल्ड वाइड वेब क्या है? / world wide web (www).

यह सुविधा इंटरनेट के सर्वाधिक लोकप्रिय और प्रचलित उपयोग में कठिनाई नहीं होती! यह मन चाहे संख्या वाले अंतर संबंधित डाक्यूमेंट्स का समूह हैजिसमें से प्रत्येक डॉक्यूमेंट की पहचान उसके विशेष पते से की जा सकती है! इस पर उपलब्ध सबसे महत्वपूर्ण सेवाओं में से एक सर्चिंग है! इंटरनेट में शताआधी सर्च इंजन कार्यरत है जिसमें गूगल सर्वाधिक लोकप्रिय है!

5. ई-कॉमर्स - e commerce kya hai.

इंटरनेट की प्रगति की ही एक परिणति ई-कॉमर्स है! किसी भी प्रकार के व्यवसाय को संचालित करने के लिए इंटरनेट पर की जाने वाली कार्यवाही को ई-कॉमर्स कहते हैं! इसके अंतर्गत वस्तुओं का क्रय-विक्रयविभिन्न व्यक्तियों या कंपनियों के मध्य सेवा या सूचना आते हैं!

इन मुख्य सेवाओं के अतिरिक्त इंटरनेट द्वारा और भी अनेक सेवाएं प्रदान की जाती है! जिसके असीमित उपयोग है. internet essay

भारत में इंटरनेट - internet in india.

भारत में इंटरनेट का आरंभ आठवें दशक के अंतिम वर्ष में अर्नेट ( शिक्षा और अनुसंधान नेटवर्क ) के रूप में हुआ था! इसके लिए भारत सरकार के इलेक्ट्रॉनिक विभाग और संयुक्त राष्ट्र विकास कार्यक्रम ने आर्थिक सहायता उपलब्ध कराई थी! इस परियोजना में पांच प्रमुख संस्थानपांचों भारतीय प्रोधोगिकी संस्थान और इलेक्ट्रॉनिक निदेशालय शामिल थे! अर्नेट का आज व्यापक प्रसार हो चुका है और वह शिक्षा और शोध समुदाय को देशव्यापी सेवा देना है! एक अन्य प्रमुख नेटवर्क नेशनल इनफॉर्मेटिक्स सेंटर ( एन आई सी ) के रूप में सामने आयाजिसने प्रायः सभी जनपद मुख्यालय को राष्ट्रीय नेटवर्क से जोड़ दिया! आज देश के विभिन्न भागों में यह 14 सौ से भी अधिक स्थलों को अपने नेटवर्क के जरिए जुड़े हुए हैं. internet essay
आम आदमी के लिए भारत में इंटरनेट का आगमन सन 15 अगस्त 1995 ईस्वी को हो गया थाजब विदेश संचार निगम लिमिटेड ने देश में अपनी सेवाओं का आरंभ किया! प्रारंभ के कुछ वर्ष तक इंटरनेट की पहुंच काफी धीमी रहीलेकिन हाल के वर्षों में इसके उपभोक्ता की संख्या में जबरदस्त वृद्धि हुई है! सन 1999 ईस्वी में टेलीकॉम क्षेत्र निजी कंपनियों के लिए खोल दिए जाने के परिणाम स्वरूप अनेक नए सेवा प्रदाता बेहद प्रतिस्पर्धा विकल्पों के साथ सामने आए! भारत में इंटरनेट के उपभोक्ताओं की संख्या वर्ष अप्रैल 2010 तक करोड़ की संख्या को पार कर चुकी है! भारत में इंटरनेट का उपयोग करने वाले विश्व की तुलना में परसेंट है और भारत पूरे विश्व में चौथे स्थान पर है! सरकारी एजेंसियां इस बात के लिए प्रयासरत है कि आईटी का लाभ सामान्य जन तक पहुंचाया जा सके! भारतीय रेल द्वारा कंप्यूटर फ्री आरक्षणआंध्र प्रदेश सरकार द्वारा शहरों के मध्य सूचना प्रणाली की स्थापना तथा केवल सरकार की सूचना उद्योग विभाग द्वारा फास्ट रिलायबिलिटी इंटरनेट नेटवर्क फार डिसबर्समेंट अप सर्विसेज ( फ्रेंड्स ) जैसी पेशकशो ने दिशा में देश के आम नागरिकों की अपेक्षाओं को बहुत बड़ा दिया है!

भविष्य की दिशाएं / future of internet.

भविष्य के प्रति इंटरनेट बहुत ही आवश्यतकरी दिखाई दे रहा है और आज के आधार पर कहीं अधीक प्रगतिशाली सेवाएं प्रदान करने वाला होगा! भविष्य के नेटवर्क जिन उपकरणों और साधनों को जोड़ेंगेवे मात्र कंप्यूटर नहीं होंगे,वरन माइक्रोचिप संचालित से होने के कारण तकनीकी अर्थों में कंप्यूटर कैसे होंगे! आने वाले समय में केवल कार्यालय ही नहीं निवासस्कूलअस्पताल और हवाई अड्डे एक दूसरे से जुड़े होंगे! व्यक्ति के पास व्यक्तिगत डिजिटल सहायक ऐसे पाम टाप होंगेजो वायरस और मोबाइल टेक्नोलॉजीयो का उपयोग करके किसी भी उपलब्ध नेटवर्क से स्वतः जुड़ जाएंगे! लोग अपने मोबाइल फोन के जरिए ही विभिन्न देयो का भुगतान कर सकेंगे और कारे हाईवे पर भीड़-भाड़ पर नजर रखने और अपने चालकों को सुविधाजनक रस्ते रास्ते के बारे में सुझाव देने में समर्थ होगी! इंटरनेट व्यक्तियों और समुदायो को परस्पर घनिष्ठ रूप से काम के लिए सक्षम बना देगा और भौगोलिक दूरी के कारण आने वाली बाधाओं को समाप्त कर देगा! कंप्यूटर का रचित समुदायों का उदय हो जाएगा और तब दमनकारी शासकों के लिए विश्व में अपनी लोकप्रियता को सुरक्षित रख पाना संभव नहीं रह जाएगा! विश्व में टेक्नोलॉजी का उपयोग संस्कृतिभाषा और विरासत की विविधता की रक्षा के लिए किया जाएगा तथा भविष्य की राजनीतिक व्यवस्था भी इससे नहीं रहेगी!

internet essay / इन्टरनेट पर निबंध.

टेक्नोलॉजीयो के लोकप्रिय होते ही सामान्य शिक्षित नागरिकों के लिए भी यह पूरी तरह आसान हो जाएगा कि वह कानून निर्माण की प्रक्रिया में सक्रिय भागीदारी कर सके! इसके फलस्वरूप कहीं अधिक समर्थ लोकतंत्र संभव हो सकेगा! जिस में निर्वाचित प्रतिनिधियों की उत्तरदायित्व कुछ अलग प्रकार के होंगे! भविष्य की सबसे बड़ी चुनौती इंटरनेट टेक्नोलॉजी के दौरान की है जिसे समाज के हर वर्गतक उसके फायदे की पहुंच संभव बनाई जा सके! किसी भी टेक्नोलॉजी का उपयोग हमेशा समूचे समाज के लिए होना चाहिए न की उसको समाज के कुछ वर्गों वंचित करने के लिए एक औजार के रूप में इस्तेमाल किया जाना चाहिए! एक बार यह उपलब्धि हासिल की जा सके तो वास्तव में संभावनाओं की कोई सीमा ही नहीं है! संक्षेप मेंक्रांति तो अभी आराम ही हुई है! internet essay Internet essay in hindi.

तो दोस्तों आप सभी जान चुके होंगे की internet essay in hindi. के बारे में की इन्टरनेट पर निबंध कैसे लिखते है. तो अगर आपको कुछ समझने में परेसानी आई होगी तो हमें निचे comment करके बताइए हम आपकी पूरी मदद करेंगे और अगर आपको और भी इन्टरनेट सम्बंधित जानकारी चाहिए तो हमें बताये किस topic के बारे में आपको जानकारी चाहिए हम आपको अच्छी से अच्छी जानकारी प्रदान करेंगे तो दोस्तों उम्मीद करता हूँ की आपको हमारा आर्टिकल इन्टरनेट पर निबंध अच्छा लगा होगा. अपना कीमती समय देने के लिए आपका बहुत बहुत धन्यवाद्!

No comments: